कोरोना काल- बीमा कंपनियां पेश करेंगी स्‍टैंडर्ड कोरोना इंश्‍योरेंस पॉलिसी

इसमें 5 लाख रुपये तक कोविड-19 से जुड़े अस्‍पताल के खर्चों को कवर किया जाएगा। यह पॉलिसी बीमारी के इलाज में उपयोग होने वाले पीपीई किट, ग्‍लव्‍ज, मास्‍क और अन्‍य तरह के खर्चों को कवर करेगी।

बीमा नियामक इरडा ने सभी बीमा कंपनियों को एक जरूरी निर्देश दिया है। इरडा ने कहा है कि 15 जुलाई से उन्‍हें अनिवार्य रूप से कोविड-19 स्‍टैंडर्ड हेल्‍थ इंश्‍योरेस प्रोडक्‍ट ऑफर करना होगा। यह एक स्‍टैंडर्ड हेल्‍थ इंश्‍योरेंस पॉलिसी होगी। इसमें 5 लाख रुपये तक कोविड-19 से जुड़े अस्‍पताल के खर्चों को कवर किया जाएगा। यह पॉलिसी बीमारी के इलाज में उपयोग होने वाले पीपीई किट, ग्‍लव्‍ज, मास्‍क और अन्‍य तरह के खर्चों को कवर करेगी।

कोविड-19 स्‍टैंडर्ड हेल्‍थ पॉलिसी का बेस कवर ‘इनडेमनिटी’ आधार पर ऑफर कि ..

स्‍टैंडर्ड कोरोना वायरस पॉलिसी के पांच प्रमुख फीचर इस तरह होंगे :
1. हेल्‍थ इंश्‍योरेंस पॉलिसी कोविड-19 से जुड़ी बुनियादी स्‍वास्‍थ्‍य जरूरतों को पूरा करेगी।
2. यह स्‍टैंडर्ड प्रोडक्‍ट होगा। इसमें पॉलिसी की भाषा एक जैसी होगी।
3. इसमें एक बीमा कंपनी से दूसरी में पोर्टेबिलिटी की सुविधा होगी।
4. इस पॉलिसी को 65 साल की उम्र तक के लोग खरीद सकते हैं।
5. यह पॉलिसी तीन महीने, छह महीने और एक साल के लिए जारी की जा सकती है। चुनी गई अवधि के अनुसार इसे रिन्‍यू कराना होगा. ..

प्रीमियम में अंतर स्‍टैंडर्ड प्रोडक्‍ट होने के कारण बीमा कंपनियों के पास अपनी अंडरराइटिंग समझ के अनुसार प्रोडक्‍ट के दाम तय करने की आजादी होगी। इसका मतलब यह है कि सभी बीमा कंपनियों के पॉलिसी प्रीमियम अलग-अलग होंगे।

क्‍या आपको इसे खरीदना चाहिए?

यह कोविड-19 कवर उन लोगों के लिए उपयोगी साबित हो सकता है जिनके पास हेल्‍थ इंश्‍योरेंस पॉलिसी नहीं है। कोरोना की महामारी के बीच इसकी मदद से वे खुद की सुरक्षा कर सकते हैं। दिल्‍ली स्थित इंश्‍योरेंस ब्रोकरेज फर्म सिक्‍योरनाउ डॉट इन के एग्‍जीक्‍यूटिव डायरेक्‍टर चंदन डीएस डांग ने कहा कि अगर आपके पास रेगुलर हेल्‍थ इंश्‍योरेंस पॉलिसी नहीं है या कवर कम है तो कोरोना वायरस इंश्‍योरेंस पॉलिसी उपयोगी है। यह आपको कम प्रीमियम में मिल जाती है। हालांकि, आपके पास मेडिक्‍लेम पॉलिसी है तो टॉप-अप कवर लेना बेहतर होगा। कारण है कि यह कोरोना वायरस और बीमारी दोनों के इलाज को कवर करेगा।

अगर पहले से ही आपके पास रेगुलर या कॉम्प्रिहेंसिव हेल्‍थ इंश्‍यारेंस पॉलिसी है तो आपके लिए कोरोना वायरस इंश्‍योरेंस पॉलिसी को लेना जरूरी नहीं है। शर्त यह है कि इन पॉलिसियों में कोविड-19 कवर को किया गया हो।