धारा-370 ने बिगाड़ा था माहौल, एक्ट हटने के बाद नहीं गई किसी नागरिक की जान

श्रीनगर। जम्मू कश्मीर पुलिस ने शुक्रवार को कहा कि पांच अगस्त- 2019 को अनुच्छेद 370 के निष्प्रभावी होने के बाद राज्य में कानून-व्यवस्था की किसी स्थिति में एक भी नागरिक की जान नहीं गई है। पुलिस ने पांच अगस्त- 2019 से तीन साल पहले और तीन साल बाद हुई हिंसा के तुलनात्मक आंकड़ों का विवरण देते हुए कहा कि अनुच्छेद 370 के निष्प्रभावी होने के तीन साल बाद कानून व्यवस्था की 438 घटनाएं हुईं, जबकि इससे तीन साल पूर्व तक इन घटनाओं की संख्या 3686 थी।

पुलिस ने दावा किया कि जम्मू-कश्मीर की स्वायत्तता खत्म होने के बाद पिछले तीन साल के दौरान कानून और व्यवस्था की स्थिति में किसी भी नागरिक की मौत नहीं हुई है, जबकि अनुच्छेद 370 की समाप्ति से तीन वर्ष पहले की अवधि में 124 नागरिक मारे गए थे। उन्होंने बताया कि इसी तरह कानून-व्यवस्था की घटनाओं में इस दौरान किसी पुलिसकर्मी की मौत नहीं हुई है, वहीं पांच अगस्त, 2019 से पहले छह पुलिसकर्मी शहीद हुए थे।